उत्कर्ष

उत्कर्ष


नए साल का नया अनुमान
न हो रोग न कोई ही विषाद
सदा रहे मन शुभता का प्रमाण
उमंग हो सदैव मन हो हर्षित

रहे मन भेद भाव से रहित
हो उन्नति का आकाश सभीत
हो आशाओ का निष्कर्ष
हो प्रगति का ही उत्कर्ष

हो शामिल खुशियो मैं सहर्ष
हो निर्णयों का सद वर्ष
ना हो किसी से संधर्ष
हम जाए सदा आश्वश्त


और हिंदी काव्य पढ़ें

Photo by Gelgas Airlangga from Pexels

शेयर करें
About डॉ विद्यावती पाराशर 1 Article
जीवन परिचय.. नाम: डॉ विद्यावती पाराशर जन्मस्थान: महेश्वर शिक्षा: आयुर्वेदिक चिकित्सक 9. E.- mail id, vidhyaparashar@yahoo.com 10.. मोबाइल. No. 9425479261
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments