करोना से म्हारे बढ़ो डर लागे

करोना से म्हारे बढ़ो डर लागे

ये करोना से म्हारे बढ़ो डर लागे घर- घर
में पग पसारे,

जो सुनी लेउ लोगां की बाता हाथ पाँव
म्हारा फुलि जावे,

दवाखाना मं जगा नई इंजेक्शन भी बोली
लगाई ना लावे,

इतना मं प्राण पखेरू उड़ी जावे वेंटिलेटर
पर पटकि ना राखे,

लाखों रुपया दिन भी देह दवाखाना
से घर नही आवे

दो मनक जाई न बिन कफन की,
चिता जलावे

ये करोना से म्हारे बढ़ो डर लागे ।

शेयर करें
About सरिता अजय साकल्ले 28 Articles
श्रीमती सरिता अजय जी साकल्ले इंदौर मध्य प्रदेश
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments