प्रलय

प्रलय होगा महाभयंकर

प्रलय सूक्ति

जब भय में व्याप्त होगा संसार
और नहीं होगा उद्धार
जब रचनाएँ देवताओं की मिटेंगी
और चिताएँ मनुष्यों की उठेंगी

तब प्रलय होगा महाभयंकर
कांपेगा हर पत्थर-पत्थर,
होगा मृत्यु का आगमन
और जीवन का गबन
तब कोई खड़ा न रह पाएगा
मन खण्ड-खण्ड हो जाएगा।

सूर्य लालिमा, चन्द्र चाँदनी
जब अपनी खो देंगे
धरती नदियाँ, समुद्र और पर्वत
स्वतः ही रो देंगे।

पीड़ीत होगे मन
श्रव्यं होगा अंतर्रोंदन
पृथ्वी का हृदय फटेगा
और उजाला शीघ्र घटेगा।

हाहाकार होगी सब ओर
नहीं बचेगा कोई छोर
धरा नष्ट हो जाएगी
कंठो से सिर्फ चीखें आएगी
अंतरतम् में होगा व्याप्त
भय, क्षुब्धता, अंधविश्वास।

प्रलय सूक्ति | हिंदी कविता | काव्य | काव्यांजलि | शब्दबोध – हिंदी की नवीन रचनाएँ

और कविताएँ पढ़ें

Photo by Neenu Vimalkumar on Unsplash

शेयर करें
About अंशुमान सिंह ठाकुर 3 Articles
मेरा नाम अंशुमान सिंह ठाकुर है। मैं राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय से संगणक अभियांत्रिकी में स्नातक हूं। यूं तो मेरी बहुत सारी चीज़ों में रुचियां हैं परन्तु मुझे लेखन एवं चित्रकला में सबसे अधिक रुचि है। राजनीति, अर्थव्यवस्था तथा धर्म में भी कुछ दिलचस्पी है।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments