सकारात्मक सोच

मन तू न होना कभी अधीर

मन तू न होना कभी अधीर ,
संग अपनों के चल रखना थोड़ा धीर।
देख अपनों की खुशियां
हृदय से रहना सदा भगवन के आभारी,
जब आये विपदा तुम पर
कभी न करना रीझ।
कर जोड़ विनती करना
हर लेंगे प्रभु तेरी सब पीर।
बहती नदियां से जीवन मे रखना सदा बहाव
राह में कंकड़ पत्थर
न लाना कभी ठहराव।
प्रकृति से लेते रहना सदा परोपकार की सीख,
रूखी सूखी चाहे पड़े खाना ,
देना न कभी औरों की आँखों में तू नीर।
सदा लबों पर हँसी सजाना,
कभी रोना नहीं देख कर
दूसरों की जागीर।
हँसते मुस्कुराते चलते रहना
जीवन में हो चाहे संकट गंभीर।

कहानियाँ भी पढ़ें

Photo by Miguel Bruna on Unsplash

शेयर करें
About प्रवीणा पगारे 6 Articles
श्रीमती प्रवीण पगारे शाजापुर
1 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments