माँ

तू मुझे आगे ले चल

मां तू ही मेरा आज है,
तू ही मेरा कल,
हाथ थाम कर मेरा,
तू मुझे आगे ले चल ।

तेरी परवाह होती है,
मुझे आजकल,
हाथ थाम कर मेरा,
तू मुझे आगे ले चल।

यह दुनिया है कितनी बड़ी,
कहीं खो ना जाऊं मैं यही,
पर याद है मुझे,
साथ है मेरे तू हर पल।

क्योंकि तू ही मेरा आज है,
तू ही मेरा कल,
हाथ थाम कर मेरा,
तू मुझे आगे ले चल ।

दुआ करती हूँ ईश्वर से,
खुश रहे तू हर पल,
कोशिश करुँगी खुद से,
हर बात पर तेरी करूँ अमल।

तू ही मेरा आज है,
तू ही मेरा कल।
हाथ थाम कर मेरा,
तुम मुझे आगे ले चल।

कहानियां भी पढ़ें : लघुकथा

Photo by Liv Bruce on Unsplash

शेयर करें
About नूतन भट्ट 1 Article
नूतन भट्ट शिक्षा बी. कॉम. एम. ए. बी. एड. डिप्लोमा इन कम्प्यूटर्स रूचि~ लेखन, गायन , वादन
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments