उड़ान सपनों की

सपनों की उड़ान

ख़्वाबों के परिंदों, चल पड़ो उस डगर
जहाँ मयस्सर हो तुम्हारे सपनों का सफ़र

वहशत न रखना की रास्ता पथरीला हैं,
चलना शुरू करो तो हर सफ़र रंगीला हैं

मुस्कुरा कर दिल में उम्मीद लिए चलना
औरों पर न सही मग़र रब पर विश्वास किये चलना

औरों की बातों में आकर, ग़लत मोड़ न लेना
सपनें तेरे हैं, रास्ता भी ख़ुद ही तय करना

सफ़र लंबा होगा, अँधेरा ज़्यादा मिलेगा
धैर्य के साथ मग़र तु भोर का इंतज़ार करना

जिंदगी की दौड़ में, ख़ुद का भी ख़्याल करना
चाहें जो हो जाए स्वाभिमान का हाथ नहीं छोड़ना

जश्न छोटी छोटी जीत का भी मनाना,
छोटे छोटे कदमों से अपनी मंज़िल को छु जाना

फूल जीत के खिलने देना, मग़र गुलदस्ता अभिमान का न सजाना
ख़्वाबों के परंदे बस तू सपनों की उड़ान भर जाना…

और कविताएँ पढ़ें

Photo by Érik Gonzalez Guerrero on Unsplash

शेयर करें
About नंदिनी गावशिंदे 4 Articles
नाम :- नंदिनी गावशिंदे शिक्षा :- कॉमर्स स्ट्रीम से ग्रेजुएशन कंप्लीट हो गया है, रुचि :- किताबे पढ़ना और कविताएँ लिखना
5 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments