समय की ही लिखावट

समय की लिखावट


—- समय की लिखावट —-

क्यों अपने समकक्ष मानते हो मुझे?
क्यों मुझसे ईर्ष्या रखते हो?

मैं नही हूँ बेहतर दिखने की किसी दौड़ में शामिल
ना ही शौक है मुझे किसी प्रतिस्पर्धा का।
मन की बुरी नही हूँ यह तय है।
थोड़ी अलग इसलिए
हूँ मैं जमाने से।

की कोई ख्वाहिश पूरी नही होती मेरी यहां।
समय लिखता रहता है हर पल मुझे ।
मैंने नही लिखी अपनी इबारत
समय की ही लिखावट हूँ मैं।

चुप रहती हूं इसलिए रिश्ते निभ जाते हैं मेरे
बोलूँ कुछ मेरे हक में तो अकेली रह जाती हूँ
और देख अकेली मुझे आ दबोचती हैं उलझने।

तब क्षमता से अधिक दम लगा कर भीड़ जाती हूं बाहर निकलने उनसे
और फिर बाहर आ कर मुस्कुरा देती हूँ
तुम मुझे अपना प्रतिद्वंद्वी मान बैठते हो।

तो तुम अपनी जिंदगी बेफिक्र जिओ और मुझे दुआएं दो
ताकि मेरी मुस्कान बरकरार रहे

और मैं लिख कर बता सकूँ अपनी भावनाओं को
शब्दांजली दे सकूँ..

और हिंदी काव्य पढ़ें

Photo by Yannick Pulver on Unsplash

शेयर करें
About दामिनी पगारे 6 Articles
मैं श्रीमती दामिनी सुनील पगारे एम. ए.(राजनीति शास्त्र) बड़वाह जिला-खरगोन(M.P.) लगभग बाईस साल से स्वान्तःसुखाय लिख रही हूं। माता पिता के आशीर्वाद ,सभी परिजनों के प्रोत्साहन और अन्य सभी स्वजन के स्नेहाशीष, सद्भावनाओं से सोशल मीडिया पर अपनी पहचान बना पाई।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest

0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments