सुनहरा बचपन

बचपन

शीर्षक: सुनहरा बचपन

आज खोली जीवन की किताब
हर पन्ने पर कुछ इस तरह था,
जीवन के खट्टे-मीठे पलों का हिसाब,
कभी कड़ी धूप मिली जीवन में,
तो कभी पीपल की घनी छाँव,
कभी काँटों भर सफर रहा तो,
चमन में फूलों की बहार।

कभी दुखों के काले बादल थे तो,
कभी सुखों की सावनी फुहार।

कभी कुछ पल का प्यार मिला तो
कभी लम्बी तकरार।
कभी क्रोध से भरा मन था तो,
कभी मिली शान्ति अपार।

बस
पहला पृष्ठ था , मधुर-सुहाना
वह था मासूम बचपन हमारा।

छलावे से दूर बहुत था मन,
चंचल और भोला बहुत था मन।

न कोई गैर था, न किसी से बैर था।
चहकते, फुदकते रहते थे
चिड़ियों की तरह घर-आँगन में,
खिलते, महकते रहते थे,
चमन के फूलों की तरह।

होती एक पल में कट्टी, दूजे ही
पल में बट्टी हो जाती थी ।

न राग और न द्वेष था मन में,
सभी को अपना समझते थे।

बचपन की यादों से मन
बचपन में खो जाता है
फिर अपने ही नन्हे फूलों में
(नाती-पोतों में)
ढूंढती हूं अपना खोया बचपन
दिल फिर बच्चा बन जाता है

कहानियां भी पढ़ें : लघुकथा

Photo by Artak Petrosyan on Unsplash

शेयर करें
About जागृति डोंगरे 11 Articles
मैं जागृति श्यामविलास डोंगरे मंडलेश्वर से . पिता --- महादेव प्रसाद चतुर्वेदी माध्या (साहित्यकार) हिन्दी, अंग्रेजी, निमाड़ी मंडलेश्वर शिक्षा --- M. A. हिन्दी साहित्य मैं स्कूल समय से कविताएं लिखती रही हूं , काफी लम्बे समय से लेखन कार्य छूट गया था, अब पुनः शुरू कर दिया । इसके अलावा अच्छी,अच्छी किताबें पढ़ना , कुकिंग का भी शौक है। रंगोली बनाना अच्छा लगता है। कढ़ाई , बुनाई भी बहुत की,अब नहीं करती।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments