हिंदी दिवस पर हाइकु

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हाइकु जापानी पद्धति है यह ३ लाइन की कविता होती है। इसका मुख्य गुण ” गागर में सागर भरना ” होता है यानी कि कम शब्दों में अधिक बात कहना। हाइकु १७ वर्णों का होता है

हिंदी की शान में, हिंदी दिवस पर हाइकु प्रस्तुत है,

भाल पे बिंदी
माँ के श्रंगार जैसी
सजाए हिंदी।

गंगा की धारा
जैसी बहती जाए
देश में हिंदी।

भेद मिटाए
एक सूत्र में बाँधे
सबको हिंदी।

हिन्दुस्तान की
बनाओं राष्ट्र भाषा
सबकी हिंदी।

और हिंदी काव्य पढ़ें

Image by Harish Sharma from Pixabay

शेयर करें
About सुभाष शर्मा 8 Articles
सुभाष शर्मा, इन्दौर (म.प्र.) बैंक आफ बड़ौदा से सेवा निवृत ,वर्तमान में बिल्डर एवं प्रापर्टी ब्रोकर। कविता एवं कहानी लेखन में रूचि ।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments