हिन्दी का मान

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

ये बात है मेरे देश के सम्मान की।
ये बात है मेरे मान अभिमान की।
हिन्दुस्तान की धरती है मेरी माता,
बात करूंगा मैं हिन्दी के मान की।

हर देश की होती है अपनी भाषा।
भारत के प्रदेशो की अपनी भाषा।
पर यहाँ हिन्दी बोले हर हिन्दुस्तानी
हम सब मिल अपनाए हिन्दी भाषा।

हम सब मिल हिन्दी का मान बढ़ाए।
विश्व में हिन्दी को सम्मान दिलाए।
मातृभूमि के भाल को उन्नत करके,
उस पे हम हिन्दी से तिलक लगाएं।

हिन्दी में बसा है मेरा मान।
हिन्दी ही है मेरा अभिमान।
हिन्दी में है माँ की ममता
हिन्दी भाषा से है देश का सम्मान।

और हिंदी काव्य पढ़ें

Image by Harish Sharma from Pixabay

शेयर करें
About सुभाष शर्मा 8 Articles
सुभाष शर्मा, इन्दौर (म.प्र.) बैंक आफ बड़ौदा से सेवा निवृत ,वर्तमान में बिल्डर एवं प्रापर्टी ब्रोकर। कविता एवं कहानी लेखन में रूचि ।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments