2020

सन् 2020 –2021

तेरे स्वागत में हमनें बाहें फैलाई
मेहमान ही रहा तू अपना ना बना
तू गिना जाता है सम संख्या में पर
कितनों को तूनें विषम कर डाला।

तेरी बिदाई का समय अब आया
कहना 2021 से खुशियां ही लाना
आंसू,दर्द,भय मैं दे आया
तू सबकों सूत समेत लौटाना।

कैदी बनें हम घर में कब से
स्वतंत्रता का अब दिप जलाना
बहुत उम्मीदें आशाएं हैं
तुम किसी को निराश न करना।

स्वर्ग बनाना हैं धरा को अब तो
प्रेम समरसता का बीज हैं बोना
भेदभाव को जड़ से हैं मिटाना
सद्भाव,प्रेम का अलख जगाना।

शेयर करें
About जयन्ती अखिलेश चतुर्वेदी 17 Articles
नाम--जयन्ती चतुर्वेदी निवास--सनावद , जिला खरगोन शिक्षा--बी एस सी, एम ए हिंदी साहित्य
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments