क्षणिका – बेटी और माँ

बेटी और माँ क्षणिका

बेटी

जीवन प्रभा है वो,
अंतर्मन की कथा,
मर्यादा त्याग समर्पण,
बेटी स्नेह बंधन।


मां

प्यार स्पंदन,
महकता चंदन,
पवित्र शीतल मन,
सलिल सरिता सी,
मां तुम अनुपम।

Photo by Raghavendra V. Konkathi on Unsplash

और कविताएँ पढ़ें : हिंदी कविता

शेयर करें
About ममता कानुनगो 7 Articles
मैं ममता कानुनगो इंदौर से सभी को नमन! मै एक गृहिणी हूं। शिक्षा-एम.ए एवं शास्त्रीय गायन में विशारद हूं।लेखन और गायन में मेरी बचपन से रुचि है।
1 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments