अस्मिता

नारी

नारी अस्मिता

नारी अस्मिता
आज प्रश्न बन गई।
मातृ देवो भव
संस्कृति धूमिल पड़ गई।
गाली दी जाती है तो
औरत के नाम पर।
सदा डराई जाती
इज़्ज़त के नाम पर।
मजबूर की जाती है
छल और बल से।
प्रखर हो गई तो
दबा दी जाती है।
मुखर हुई तो
ताने ही पाती है।
क्यों इतना निर्दयी हो रहा संसार
सच मे नारी क्या इतना सताती है?
नदियां सूख रही
दूषित हो कर
बेटियां रो रही
अपमानित हो कर।
बेटी को सम्भालो
जिम्मेदारी तुम्हारी है।
नारी का मान बचाओ
की यह जननी तुम्हारी है ।

Image by nonmisvegliate from Pixabay

और कवितायेँ पढ़ें : काव्यांजलि

शेयर करें
About दामिनी पगारे 5 Articles
मैं श्रीमती दामिनी सुनील पगारे एम. ए.(राजनीति शास्त्र) बड़वाह जिला-खरगोन(M.P.) लगभग बाईस साल से स्वान्तःसुखाय लिख रही हूं। माता पिता के आशीर्वाद ,सभी परिजनों के प्रोत्साहन और अन्य सभी स्वजन के स्नेहाशीष, सद्भावनाओं से सोशल मीडिया पर अपनी पहचान बना पाई।
5 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments