नववर्ष

नववर्ष ये प्रकृति का

नववर्ष ये प्रकृति का है, और सृष्टि इसे मनायेगी।

पल्लवित होंगे पुष्प-पत्र नव,
नव अंकुर नज़र आयेंगे।।

गीत ये सृष्टि कर्ता के कौशल का है,
सर्व जगत इसे गायेगा।

नदियां ,पर्वत ,झरनों की ताल है,
पशु-पक्षी स्वर मिलायेंगे।।

मानवता की अक्षमता खूब देखी,
धरा-अम्बर अपनी सक्षमता दिखाएंगे।

पवनचक्की को वायु ने चलाया है,
वृक्ष और पौधे लहराकर ये बताएंगे।।

मुट्ठी भर दीपक क्षणों के लिए जलते हैं,
ईश्वर के चंदा-सूरज अनंतता को जताएंगे।।

हठी, घमंडी, कृतध्नी मानवता को,
प्रकृति अनुशासन सिखलाएगी।

नववर्ष ये प्रकृति का है और सृष्टि इसे मनायेगी।।

Image by Ondřej Šponiar from Pixabay

और कवितायेँ पढें : शब्दबोध काव्यांजलि

शेयर करें
About विनीता बर्वे 5 Articles
विनीता विशाल बर्वे बीएससी बायोलॉजी, एम ए अंग्रेजी साहित्य, लेखन और सांस्कृतिक,सामाजिक ,धार्मिक कार्यक्रमो में क्रियाशील पतंजलि प्रमाणित योग शिक्षक धरमपुरी, मध्य प्रदेश
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments