समर्पण

नारी। जीवन का मंत्र है समर्पण
जिसने स्वयं का सर्व स्व किया अपर्ण
हर भाव है निश्छल आया न किया न कभी छल
त्याग की मूर्ति सेवा में रत
किये काम अनगीनत
आपसी सहयोग ओर प्रेम पर
सर्व स्व किया किया न्योछावर
हर मुश्किल में ढाल बनी हर दहलीज को किया सरोबर

Photo by Sonika Agarwal on Unsplash

शेयर करें
About किरण आर के शर्मा 4 Articles
किरण आर के शर्मा, खरगोन
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments