तिरंगा देश की शान बढ़ाये

tiranga


मेरा लहर लहर लहराए
तिरंगा लहर लहर लहराए
ये अनुपम शोभा बढ़ाए
तिरंगा देश की शान बढ़ाए
हरा रंग है हरियाली का
हार नहीं ये माने
दुत्कार नहीं ना ताने
ये हर दम दम पर छाए।

ये हरि की महिमा गाए
मेरा लहर लहर लहराए तिरंगा
लहर लहर लहराए

साफ सुथरा संस्कृति का
सफेद रंग उज्ज्वलता का
स्वच्छता है इसमें इतनी
सागर की हर बूंद जितनी

आंधी आये चाहे तूफां
चाहे कोई भी विपदा आए
स्वाभिमानी है ये इतना
दे देता है सबको झटका।
ये धरम का रखवाला, ये कभी ना झुकने पाए
मेरा लहर लहर लहराए तिरंगा लहर लहराए

चाहे हो दंगा चाहे लड़ाई
मर मिटने की कसम है खाई
ये जंग का है रखवाला
सूरज सी किरणों वाला।
ये केसरी लाल कहाई
मेरा देश बचाए रे भाई
इसमें है ममता समाई
ये सूर्यवीर है रे भाई
ये भारत देश है भाई
हो कभी ना इससे जुदाई
इसे नमन करो रे भाई
ये मेरा देश कहाई

हरा रंग है हरियाली का
सफेद रंग है सागर जैसा
बीच वीर चक्र है भाई
केशरिया ने लाज बचाई।
अरे! गोरे काले जो भी आए
इस चक्र के भीतर है समाए
ये कभी ना गिरने पाए
ये वीर चक्र है कहाए
इसमें मेरी श्वास है भाई
धरती माँ इसमें समाई
हर रंग की कथा सुनाई
हर रंग ने लाज बचाई

मेरा लहर लहर लहराए तिरंगा लहराए

Photo by AKSHAT GUPTA on Unsplash

शेयर करें
About श्रीमती अनुराधा सांडले 8 Articles
श्रीमती अनुराधा सांडले खंडवा
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments