वीर हनुमान

हनुमान

महाबली हनुमान,
तात तोरे पवमान।
अंजना के लाल प्रभु
जग में पुजाएँ हैं।

रविकर मुख धारे
असुर लाखों संहारे
भगत वत्सल प्रभु
राम को नमाएँ हैं।

सिंधु सात लांघ कर
सीताजी की खोजकर
रामभक्त दूत बन
मुद्रिका दिखाएँ हैं।

प्रभुजी का ध्यान धरो
भगति का पान करो
सच्चे भक्तों पर सदा
निधियाँ लुटाएँ हैं।

Image by Ninassarts Stock Photos from Pixabay

और कवितायेँ पढें : शब्दबोध काव्यांजलि

शेयर करें
About अनुराधा 'मोक्षदा' पारे 4 Articles
अनुराधा 'मोक्षदा' पारे , जबलपुर गृहस्वामिनी। शिक्षा: एम.एस.सी(जीवन-विज्ञान),इंदौर।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments