फर्ज़

देश के लिए फर्ज़

—– देश के लिए फर्ज़ —–

दोपहर 2 बजे थे, शीला जल्दी जल्दी टिफ़िन मे खाना रखती जा रही थी |
चार साल की बेटी परी हर रोज़ माँ को इसी समय टिफिन मे खाना रखते हुए देखती रहती थी |
आखिर उसके सब्र का बाँध टूट ही गया |

उसने पूछा “मम्मी यह रोज़ खाना किसके लिए लेकर जाती हो |”

शीला ने अनसुना कर दिया |

“बताओ न मम्मी |” साड़ी का पल्लु झकझोडते हुए पूछा !

“कुछ नहीं बेटा |”

“नहीं-नहीं मुझे बताओ ! आप यह टिफ़िन किसे देती हो ?
और पापा कहाँ है ? वह घर क्यों नहीं आते है ? कितने दिन हो गये है ?
मैंने उनसे चॉकलेट के लिए कहा था वो भी नहीं लाये |
“बताओ —-न मम्मी ! पापा मुझसे नाराज हो गये है |
मैंने उनसे चॉकलेट माँगी इसलिए !
दोनों कान पकड़कर , मै पापा से सॉरी बोल दूँगी |”

परी रोती जा रही थी —–|
“मम्मी –पापा को बुला दो न —-|”

शीला की आँखो में आँसू झलक आये |

“नहीं बेटा | पापा तुमसे नाराज नहीं हैं |
वे तो अपने देश के लिए फर्ज़ निभा रहे हैं |
उन्हीं के लिए यह टिफ़िन भेज रही हूँ |”

और कहानियाँ पढ़ें : हिंदी लघुकथा

Photo by Hush Naidoo Jade Photography on Unsplash

शेयर करें
About डॉ. विजया त्रिवेदी 6 Articles
नाम- डॉ. विजया त्रिवेदी शिक्षा- एम.ए. (हिन्दी साहित्य), एम.फिल., पी.एच.डी (हिन्दी साहित्य - लगुकथाओं) विशेष- आकाशवाणी में कम्पेयरिंग, वार्ता, परिचर्चा, यववाणी कार्यक्रम (शिवपरी. म.प्र.) सर्वब्राहमण सहकारी समिति- संचालक शुभांकन पब्लिक स्कूल- उपाध्यक्ष क्षितिज संस्था मंच सदस्य
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest

0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments