शर्त

Image by PublicDomainPictures from Pixabay

“नमस्कार भाभीजी बेटे के लिए एक बहुत अच्छा रिश्ता आया है, आप सुनेंगी तो गदगद हो
जाएगी।
ऐसा रिश्ता किस्मत वालों को मिलता है | आपकी तो आने वाली पीढ़ियों का भी कल्याण हो गया | “
“भाई साहब कुछ बताएँगे या यूँ ही भूमिका बांधते रहेंगे | लड़की कहाँ तक पढ़ी है ? कहाँ रहती है ? माता पिता कौन हैं ?
निशा ने प्रश्नों की झड़ी लगा दी |
“भाभीजी पढ़ाई तो ए.वन. है , एम्. बी. ए. किया है अमेरिका से | अमेरिका में ही परवरिश हुई भारतीय मूल की है |

“अच्छा वह अपने देख लौटना चाहती है” निशा ने शांत लहजे में कहा |

“नहीं भाभीजी! आपके बेटे को एन.आर.आई. बनने का सुनहरा मौका मिल रहा है, लोग तरसते है एन.आर.आई. बनने के लिए | “

“बस भाभीजी एक छोटी सी शर्त है”

“लड़की २ महीने भारत में आपके घर रहेगी, बच्चे साथ घूमेंगे-फिरेंगे | और अगर दोनों को रिश्ता जम गया तो कोर्ट मैरिज कर देंगे”

“वीज़ा बनवा कर अमेरिका बुलवा लेगी | और आप चिंता मत करना लड़की के पिता अपने व्यापार में ही साथ कर लेंगे | “

निशा स्तब्ध !

“भाभीजी वहां सेट होते ही , आपको भी बुलाने का प्रयास किया जाएगा | “

निशा के मुँह से बोल नहीं फूट रहे थे, कानों में शब्द हथौड़ों की आवाज़ की तरह गूँज रहे थे |
नेत्रों से अविरल धरा बाह रही थी मनोमष्तिष्क में एक ही प्रश्न उमड़ घुमड़ रहा था |
“क्या दूसरे देशों में इतना सुख है की हम जननी को और जन्मस्थल को छोड़ कर वहां के निवासी बनने को लालचित है |
हमने संतान को दूसरे देशों की उन्नति के लिए जन्म दिया है| “

शेयर करें
About डॉ संगीता कालरा (डिंपल) 5 Articles
डॉक्टर संगीता कालरा( डिंपल) एमके एच एस कन्या महाविद्यालय में हिंदी विभाग में सहायक प्राध्यापक पद पर कार्यरत है। डॉक्टर संगीता कालरा लेखन कार्य में एवं पढ़ाई के क्षेत्र में अधिक रुचि लेती है इसके अलावा संगीत एवं खेल में भी रुचि रखती है।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments