हाथी से दाँत

हाथी से दाँत

शीर्षक: हाथी से दाँत

आज बाजार में सब्जी खरीदते समय मेरी कॉलेज की सहेली सुदर्शना मिल गई।

इतने सालों के बाद एक दूसरे को देख कर हम दोनों बहुत खुश हुए। उसने पूछा तुम यहाँ कैसे ?

तो मैंने बताया मेरे पति का स्थानांतरण अभी दो महीने पहले ही यहाँ हुआ है ,मेरे पति सिंचाई विभाग में अधिकारी हैं ।

वह मुझे अपने घर ले गई।

हम लोग पुरानी बातों में मशगूल हो गए बातों के दौरान उसने बताया कि पतिदेव अपने व्यवसाय में व्यस्त रहते हैं , तो मैं समाज सेवा का कार्य करती हूं कई जगहों पर मुझे बुलाया जाता है|

और वह मुझे समाचार पत्रों में प्रकाशित अपने फोटो और अपने भाषणों के विडियो दिखाने लगी।

उसके जनसंख्या नियंत्रण और बेटी बेटा एक समान विषय पर दिये गए भाषण बहुत प्रभावशाली लगे।

मैंने कहा तुम अभी भी वैसी ही हो जैसी कॉलेज के समय थी ।

आदर्शवादी विचारों वाली वही ओजस्वी वाणी ।

सामाजिक और देश की समस्याओं को लेकर चिंतित रहने वाली। अपने आप को ऐसे ही बनाए रखना।

मैंने उसे बधाई दी और कहा कि अब मैं चलती हूँ|  तभी उसके बच्चे स्कूल से आ गए|

मैंने देखा उसकी छः बेटियाँ हैं मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ

मैंने पूछा कि ऐसा क्यों, तो वह बोली शायद अबकी बार बेटा आ जाए।

मैं अनमने मन से अपने घर की ओर चल दी।

और कहानियाँ पढ़ें : कथांजलि

Image by Luis MGB from Pixabay

शेयर करें
About ममता शर्मा 1 Article
मैं ममता शर्मा मैंने प्राणी शास्त्र में M.Sc.किया है। ज्योतिर्विज्ञान में M.A भी किया है शादी के पहले अध्यापन कार्य किया और LlC कार्यालय धार में भी काम किया। अभी गृहिणी हूं। ज्योतिष शास्त्र में रूचि है और इसका उपयोग परिवार और समाज में कर रही हूं। संगीत की प्रारंभिक शिक्षा धार संगीत विद्यालय से प्राप्त की है मुझे गायन और लेखन में रूचि है गीत कविताएं लिखना अच्छा लगता है, लोकभाषा और लोकगीत संगीत बहुत लुभाते हैं भावांजलि के लिए मतदाता जागरूकता गीत, निमाड़ी स्वच्छता गीत, कोरोनावायरस से बचाव व सुरक्षा गीत, भावांजलि गीत लिखे और गाए हैं ये सभी गीत यू ट्यूब पर भावांजलि की साइट पर उपलब्ध है नार्मदीय अभिरुचि और नार्मदीय लोक में कविताएं प्रकाशित हो चुकी हैं सामाजिक मंचों पर गायन और कविता पाठ किया है नार्मदीय महिला मंडल सेंधवा में तीन वर्ष अध्यक्ष और एक वर्ष कोषाध्यक्ष रही हूं
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments