लांडी को जीव हांडी म

मैंने सुना कुछ बड़बड़ा रही थी सासू माँ,
जीव हांडी म रह्यज।
पूरा नहीं सुन पाई।
डरते हुए मैंने पूछा —क्या हुआ मम्मीजी?
आपने कुछ कहा?
हाँ!!!
लांडी को जीव हांडी म !!!
जैसे मेरा मन घर गृहस्थी में रमा रहता है वैसे ही तेरे ससुर जी पूरी तरह मोबाइल गेम में ही डूबे रहते हैं,
सच्चाई है—लांडी को जीव हांडी म रह्यज।
यह आज की सच्चाई भी है,सबका मन मोबाइल में ही रमा रहता है।
क्या इस निमाड़ी कहावत रचने वाले ने मोबाइल की कल्पना पहले ही कर ली थी?मैंने मन में ही सोचा।
अच्छा—
और हम दोनों साथ में हँस पड़ी।
क्या हम सब यही लांडी (एक सांप की प्रजाति जिसके दोनों छोर पर मुंह होते हैं)
बन कर नहीं रह गए हैं—-!!!!

Photo by Iewek Gnos on Unsplash

शेयर करें
About विभा भटोरे 9 Articles
श्रीमती विभा भटोरे, इंदौर स्नातकोत्तर -कार्बनिक रसायन शास्त्र (बी एड) अध्यन अध्यापन में विशेष रुचि। साहित्य सृजन का शौक है, निमाड़ी बोली संस्कृति और संस्कार के संरक्षण हेतु प्रयासरत।साझा संकलन शब्द समिधा प्रकाशित।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
1 टिप्पणी
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
पायल चौरे
पायल चौरे
9 months ago

सही कहा