रंगीली होली

रंगीली होली

सारी रात बेनीप्रसाद जी सो नही पाए , पिछले पाँच वर्षों से उनकी रातें बेचैनी में ही कटती थी| किन्तु हर होली की पहली रात वे सारी रात सो नही पाते|

उनका इकलौता बेटा जो पाँच वर्ष पहले होली के एक दिन पहले सड़क दुर्घटना में भगवान को प्यारा हो गया था ।

रंगों से खेलने का बहुत शौक था उसे पूरे मोहल्ले में होली की धूम मचाता था । उसकी शालीनता एवं त्यौहार की उमंग से सभी प्रभावित थे ।

अभी शादी को साल भर ही तो हुआ था सुंदर , सुशील बहू ने परिवार का दिल जीत लिया था। पिछले पाँच वर्षों से उसका जीवन रंगहीन हो गया हैं।

कितनी बार बेनीप्रसाद जी ने उससे बात की-

‘बेटा ! तुम चाहो तो अपने मायके जाकर रह सकती हो अभी तुम्हारा पूरा जीवन पड़ा हैं तुम दूसरी शादी कर अपना घर पुनः बसाओ अभी तुमने देखा ही क्या हैं । ‘

उनकी बहू का एक ही जवाब रहता था –

‘ पापा मैं उस घर से बिदा हो चुकी हूँ मैंने दिल से इस घर को अपना घर माना है| आप भी तो मेरे माता पिता हो और उन्होंने आख़री साँस में मुझे यहीं कहा था मम्मी पापा को सम्भालना|

हाँ अगर मुझे यहाँ कोई तकलीफ होती तो ज़रूर मैं यहाँ से अपने मम्मी पापा के घर चली जाती , अब आप दोनों ही मेरे मम्मी पापा हो ।’

आज रात उन्होंने अपनी पत्नी के साथ मिलकर एक फैसला लिया ।

रोज की तरह आज भी सुबह भगवान की आरती के लिए तीनों अपने पूजा घर में इक्कठे हुए आरती पश्चात बेनीप्रसाद जी बहू से बोले –

‘देखो बेटा पिछले पाँच सालों से हमने अपने घर में होली का त्यौहार नही बनाया , होली तो सबके तन के साथ मन रंगने का भी त्यौहार हैं| हम कब तक बेटे के जाने का दुःख मनाएंगे जाने वाला चला गया उसका हमारा साथ इतना ही था| उसके जाने के बाद हमारी जिंदगी रुक सी गई हैं अब हमें आगे बढ़ना हैं । ‘

ऐसा कह अपनी पत्नी के हाथ में आरती की थाल से कंकु लेकर उन्होंने अपनी बहू पैरों में लगाया और बोले –

‘हम इस घर में बहू के रूप लक्ष्मी लेकर आये आज तुम मेरे घर की दुर्गा हो तुम्हारे पैरों का पूजन कर हम तुम्हें अपनी बेटी बनाते हैं । ‘

बेशक तुमने इन पाँच सालों में हमें अपने बेटे की याद नही आने दी तुमने बेटे और बहू की जिम्मेदारी बखूबी निभाई हैं , अब हमें एक बेटी के माता पिता होने का हक निभाना हैं|

आज से बेरंग होली फिर रंगीली होली होंगी ।

Photo by David Becker on Unsplash

और कहानियां पढें : शब्दबोध कथांजलि

शेयर करें
About मञ्जुला शर्मा 5 Articles
श्रीमति मञ्जुला शर्मा शिक्षा B.A. गृहणी हूँ , पिताजी स्व. श्री बैजनाथ जी जोशी हिंदी साहित्य के व्याख्याता थे मेरी साहित्य में रूचि है कहानी कविताएं लिखना और पढ़ने का शौक है.
5 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments