वतन है जान

जवान

दामोदर इस बार लम्बी छुट्टी मिली है ,कब जा रहा है घर ? नहीं अन्ना इस बार नहीं जाना, हमारे जाते ही सरहद पर दुश्मनों का हमला होगा और ये में होने नहीं दूगा |

इस बार यहीं रहकर हमारे सैनिक साथियों का बदला लेना है मुझे ,कसम भारत माँ की दुश्मनों से बदला पूरा करके ही देश लौटूंगा , उसकी बात सुन सारे सैनिकों ने छुट्टी कैंसिल कर प्रण किया |

सरहद पर ना कदम रखने देंगें, दुश्मनों को मार गिराएंगें, तभी अपने देश जाएंगे, सबके घर से फोन आने लगे, किसी की माँ किसी बहन किसी पत्नी किसी पिता, सबके यही सवाल ,घर कब आ रहे हो, सबके जबाव एक ही जब तक सैनिक साथियों का बदला नहीं लेते तब तक नहीं आएंगे ,यही हमारा घर यही हमारा परिवार होगा |

ये कहकर भी सारे सैनिक खुश थे |

Photo by Mitul Gajera on Unsplash

शेयर करें
About अनिता शुक्ला 5 Articles
अनिता शुक्ला
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments