बसंत

मेरे शहर बसंत आया
लहराता मुस्कुरा कर आया पिय से मिलने की सौगात लाया

देखकर एक दुजे की हंसी हुई मंद
उर में भरी सुंदर स्पद

प्रिय की अशब्द श्रृंगार मुखर
नत नयनों से आलोक उतर

कापे अधरो पर थर
आया बसंत मेरे शहर

Photo by Zoë Gayah Jonker on Unsplash

शेयर करें
About किरण आर के शर्मा 4 Articles
किरण आर के शर्मा, खरगोन
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
1 टिप्पणी
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Preeti kushwah
Preeti kushwah
7 months ago

Nice