ऑनलाइन परीक्षा

ऑनलाइन की परीक्षा

शीर्षक : ऑनलाइन की परीक्षा

पहले जब कभी ऑनलाइन, मुंह से निकलता था|

तो मुझे मेरी बुद्धिमता पर भयानक रूप से विश्वास होता था|

मैं बुद्धिजीवी हूं|

मैं टेक्नो सेवी हूं|

मैं नेट का उपयोग करती हूं|

इस सारी खूबसूरत बातें मेरे व्यक्तित्व को आल्हादित कर जाती थी|

पर जब से यह करोना कॉल आया है हर कोई ऑनलाइन है|

और ऑनलाइन की परीक्षा जो असाधारण होती थी, अति साधारण की कोटि में आ गई है|

बस यही मेरे दुख का विषय है, जिसको मैं समझती थी, बुद्धिमत्ता का ऑस्कर अवॉर्ड, वह अति साधारण की श्रेणी में आ गया है।

अरे साधारण भी नहीं वह तो बिल्कुल जिंदगी में सांसो की तरह आ हो गया है|

न कोई ध्यान देता है |

न कदर करता है |

क्या करें?

पहले कबूतर होते थे जो चिट्ठी ले जाते थे|

ऑनलाइन, हवा में |

वह सारा इश्क का कारोबार भी ऑनलाइन ही होता था|

ऑफलाइन तो हम ही रहते थे जो माता-पिता की मर्जी से जिंदगी गुजारते थे |

अब छोटे-छोटे बच्चे भी ऑनलाइन हो गए हैं |

जब किसी बच्चे को टेबल पर बैठे अपने मोबाइल से अपनी टीचर से बात करते देखती हूं |

प्रश्न उत्तर करते देखती हूं तो लगता है, कि हम वही जुमेराती कन्या शाला की टाट पट्टी वाली कक्षा में आ गए हैं।

और पूरा का पूरा स्कूल हम पर हंसने भी लगा है और बतियाने भी लगा है|

न केवल बतियाने बल्कि उपदेश भी देने लगा है|

किसका ??

अरे वही कोरोनावायरस का का, और किसका ?

Photo by Nick Morrison on Unsplash

जीवन शैली में और पढ़ें : शब्दबोध जीवन शैली

ऑनलाइन परीक्षा

शेयर करें
About माया कौल 13 Articles
एम ए एल एल बी अध्यक्ष तक्षशिला महिला ग्रामोत्थान समिति अध्यक्ष भूतपूर्व सैनिक परिषद(मातृशक्ति) मालवा प्रान्त जनरल सेकेट्री भूतपूर्व सैनिक परिषद(मातृशक्ति) दिल्ली कौंसलसर, वन स्टॉप सेंटर महिला बाल विकास मास्टर ट्रेनर सेफ सिटी इंदौर गद्य पद्य लेखन में रुचि, संस्कृति साहित्य मंच द्वारा गणतंत्र सम्मान, दीपशिखा सम्मान एवं सृजन साधना सम्मान मिला है।
0 0 votes
लेख की रेटिंग
guest
0 टिप्पणियां
Inline Feedbacks
View all comments