मज़बूरी

alone

खन्ना के घर पर गहरा सन्नाटा छाया हुआ था |

एक दम हष्ट पुष्ट दिखने वाले खन्ना जी को अचानक कोरोना वाइरस ने अपने चपेटे मे ले लिया ।

परिवार के सभी सदस्य भय के प्रकोप से उनके पास आने से कतरा रहे थे।

स्टोर रूम में उनके रहने का इंतेज़ाम कर दिया गया ।

उनका हम दर्द, एक मात्र सहारा झबरु कुत्ता अपने स्वामी के साथ उसी कमरे में रहने लगा |

तभी पड़ोस की बूढ़ी अम्मा मुँह पर कपड़ा बाँधे पत्नी से बोली ——“अरे ! कोई इसके पास दूर से खाना ही सरका दो —-

वे अस्पताल वाले तो इसे भूखे को ही ले जायेंगे उठाके —|

बहुओं ने खाना सास को पकड़ा दिया । पत्नी ने कंप कंपाते हाथ से थाली पकड़ी |

इतना देख कर बूढी़ अम्मा बोली ——“अरी ! तेरा तो पति है तू भी —– मुँह बाँधके चली जा और दूर से थाली सरका दे वो अपने आप उठाकर खा लेगा “

ये सारी बातें खन्ना जी सुन रहे थे। उनकी आँखें नम थी और काँपते होठों से कहा –

“कोई मेरे पास न आये तो अच्छा है मुझे भूख भी नहीं है।”

ये परिवार की मज़बूरी थी या अवहेलना ।

Photo by Deleece Cook on Unsplash

शेयर करें
About डॉ. विजया त्रिवेदी 6 Articles
नाम- डॉ. विजया त्रिवेदी शिक्षा- एम.ए. (हिन्दी साहित्य), एम.फिल., पी.एच.डी (हिन्दी साहित्य - लगुकथाओं) विशेष- आकाशवाणी में कम्पेयरिंग, वार्ता, परिचर्चा, यववाणी कार्यक्रम (शिवपरी. म.प्र.) सर्वब्राहमण सहकारी समिति- संचालक शुभांकन पब्लिक स्कूल- उपाध्यक्ष क्षितिज संस्था मंच सदस्य
1 1 vote
लेख की रेटिंग
guest
2 टिप्पणियां
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Dr Vijaya Trivedi
Dr Vijaya Trivedi
11 months ago

Thanks to publish my short story on your website

Dr Vijaya Trivedi
Dr Vijaya Trivedi
11 months ago

Thanks for everything