हनुमान

वीर हनुमान

महाबली हनुमान,तात तोरे पवमान।अंजना के लाल प्रभुजग में पुजाएँ हैं। रविकर मुख धारेअसुर लाखों संहारेभगत वत्सल प्रभुराम को नमाएँ हैं। सिंधु सात लांघ करसीताजी की […]

नयी सुबह

स्वप्न सा लगता है मुझको,वो अच्छे दिनों का आना।खोलते ही रीत जाता है,खुशियों का हर खजाना।विपत्तियाँ मुँह बाये खड़ी है,जीवंतता अब एक कसौटी है।तलवार की […]