आवरण: जुलाई २०२१

गुरु ग्रंथन का सार

गुरु ग्रंथन का सार

2 अगस्त, 2021 1

गुरु ग्रंथन का सार है, गुरु है प्रभु का नाम,गुरु आध्यात्म की ज्योति है, गुरु है चारों धाम। प्रिय पाठक वृंद, मानव की लिए आध्यात्मिक […]

कथांजलि

डेढ़ टिकट

डेढ़ टिकट

2 अगस्त, 2021 1

लघुकथा शीर्षक: डेढ़ टिकट महानगर के उस अंतिम बस स्टॉप पर जैसे ही कंडक्टर ने बस रोक दरवाज़ा खोला, नीचे खड़े एक देहाती बुजुर्ग ने […]

अपने भगवान

अपने-अपने भगवान

2 अगस्त, 2021 1

शीर्षक: अपने अपने भगवान अंग्रेजी भाषा के शिक्षक दुबे जी का एक बड़ा सपना था कि रिटायरमेंट के बाद दोनों बहनों के परिवार के साथ […]

कूकर सीटी

कूकर की सीटी

2 अगस्त, 2021 0

शीर्षक : कूकर की सीटी “दादी ! आज आप बहुत गुस्से में हैं ?” आठ साल का चिंटू दादी का मुँह देखते-देखते कह रहा था […]

घर में ही जंगल

घर में जंगल

2 अगस्त, 2021 0

शीर्षक: घर में ही जंगल पुश्तैनी दीवान ने अपने नज़दीकी सोफे से पूछा- “यह सब क्या हो रहा है? मैं तो बरसों से इसी जगह […]

काव्यांजलि

मुझे मेरा गाँव याद आता है

मुझे मेरा वो गाँव याद आता है

15 सितम्बर, 2021 1

बरगद की छाँव मेंबैठ के भुट्टे खाना,संग दोस्तों के वहाँ घंटों भर बतियाना,नहीं भुलाये भूलतावो गुजरा जमाना , माँ के डर से छुपके जाना, ठंड में […]

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हिन्दी का मान

15 सितम्बर, 2021 0

ये बात है मेरे देश के सम्मान की।ये बात है मेरे मान अभिमान की।हिन्दुस्तान की धरती है मेरी माता,बात करूंगा मैं हिन्दी के मान की। […]

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हिंदी दिवस पर हाइकु

15 सितम्बर, 2021 0

हाइकु जापानी पद्धति है यह ३ लाइन की कविता होती है। इसका मुख्य गुण ” गागर में सागर भरना ” होता है यानी कि कम […]

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हिन्दी वतन की शान

15 सितम्बर, 2021 0

हिन्दी भारत की मातृ भाषा हिन्दी वतन की शानआओ सब मिलकर बढ़ाएं हिन्दी भाषा का मान अपनेपन की बोली हर हिंदुस्तानी अपनाएंदेश की धरोहर संस्कृति […]

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हिंदी और तोर मोर

15 सितम्बर, 2021 0

तोर मोर कछु जान न पाएमाझा तुझा भी ना पहचाने हम सबको अपनाते रहतेबहु भाषी पर हिन्द के है हम काये लला कित जाय रहे […]

संस्मरण

एल्बम

एल्बम

2 अगस्त, 2021 0

दिवाली की साफ़-सफाई में एल्बम के ढेर को व्यवस्थित करते-करते, नीता का मन अकस्मात् तस्वीरों को देखने के लिए मचल उठा ज्यों-ज्यों तस्वीरों पलट-पलट कर […]

दाई माँ

एक थी दाई माँ- हीरा

25 जून, 2021 0

महामारी के दौर में जब चिकित्सा जगत में चारों और लुट मची है । अस्पताल वाले और डाक्टर खूब चाँदी काट रहे है ।मुझे याद […]

पुराना घर

खूब सजा घर

6 जून, 2021 0

शीर्षक: पुराना घर एक साधारण से कस्बे में एक घर था जिसमे रूठी, मनाई, और लाल, हरे ,पीले, नीले, रहते थे । उस घर की […]

जीवन शैली

क्यों मनाते हैं हिंदी दिवस

हिंदी दिवस का इतिहास और महत्व

14 सितम्बर, 2021 0

सभी पाठकों को हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ! देश की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप हिंदी को अपनाने के उपलक्ष्य में भारत हर […]

चारपाई

चारपाई

2 अगस्त, 2021 0

चारपाई का नाम सुनते ही हमें फिल्मी गीत याद आ जाते है… सरकाई ले खटिया जाड़ा लगे… या धीरे से जाना खटियन में ओ, खटमल […]

तीज त्यौहार

प्रथम वंदन गुरू का

प्रथम वंदन गुरू का

24 जुलाई, 2021 0

प्रथम-वंदन-गुरू-का: गुरू पूर्णिमा के अवसर पर जीवन में मिले समस्त गुरुओं को मेरा शत् शत् नमन। प्रथम वंदन करता हूँ गुरू का।जिसने जीवन दर्शन करवाया।आशीष […]

गुरु बिना ज्ञान

गुरु की महिमा

24 जुलाई, 2021 0

गुरु बिना ज्ञान ना जग में मिल पातागुरु ही शिष्य का जीवन खुशहाल बनाता गुरु स्वर्ग के सिंहासन में नजर आताबिन गुरु की आज्ञा ईश्वर […]

गणगौर की कहानी

गणगौर उत्सव

7 जून, 2021 0

शीर्षक : गणगौर की कहानी पश्चिमी मध्यप्रदेश अर्थात निमाड़ और मालवा का विशिष्ट आनुष्ठानिक उत्सव गणगौर चैत्र सुदी 10 से चैत्र सुदी 3 तक नौ […]

गणगौर

आस्था का पर्व गणगौर

2 जून, 2021 0

गणगौर पर्व हमारे निमाड़, मालवा अंचल का लोक पर्व है। यह मुख्य रूप से देवी के अनुष्ठान का पर्व है। इस पर्व में हम माता […]

राजस्थानी मीठे गुना

राजस्थानी मीठे गुना

2 जून, 2021 2

आज हम राजस्थानी मीठे गुना की विधि बताने वाले है, गुना राजस्थान में गणगौर व्रत के लिये बनाये जाने वाला व्यंजन है, ये मीठा और […]